9456662493 6:00 Am to 9:00 Am. 6:00 Pm to 9:00 Pm.सभी प्रकार के जोतिषी समाधान हेतु जैसे विवहा था प्रेम विवहा, व्यापारिक कठिनाई, नौकरी की समस्या, संतानहीनता गृह कलेश, वशीकरण(ऊपरी असर) व अन्य समस्यायाये. 

Vashikaran Specialist Astrologer Ahemdabad, Love Vashikaran Specialist, Vashikaran Astrology India

Home > Astrology Services > Vashikaran Specialist Astrologer

Vashikaran Specialist Astrologer

हर काम १०० % गारंटी के साथ एक फोन कॉल पर घर बैठे अपने मसाइल का हल करवाये! या अल्लाह तेरा शुक्र है तूने हमे इन्सान बनाया ! और इन्सान को इन्सान का वसीला बनाया !!


ऐसी कोई मुश्किल ही नही ,जिसका कुरआन में हल मोजूद ना हो ! अगर आप किसी भी परेशानी में मुबतला हो ,मसलन रिश्तो की बंदिश ,औलाद की ना फ़रमानी ,कारोबार में बंदिश ,मिया बीबी में अनबन ,नशे की बुरी आदत , दुश्मन का ख़ौफ़ ,सफ़र में नाकामी ,औलाद का ना होना या होकर मर जाना ,नोकरी व मनोकामना आदि के किनका किसी के पास इलाज न हो वो कुरआन पाक के जरिये अपना इलाज करवाये , और खुशहाल जिन्दगी बसर करे !जो लोग जगह -जगह से मायूस हो चुके है या जिनका विश्वास इस काम से उठ गया हो वो घबराये नही ,एक बार जरुर राबता कायम करे

 याद रहे कि हर दिन का एक खास मवक्किल होता है । यह अल्लाह का फिरिश्ता होता है ।   इसी तरह एक खास  मवक्किल इस जमीन पर हर दिन की एक खास दफ्तर में देखभाल करता है । एक मवक्किल वह है जो जमीनी मवक्किल से खबरें लेकर आसमान पर जाता है । आसमान पर जाने के बाद वह अपनी खबरें जिस हाकिम के दफ्तर में पेश करता है वह एक और खास मवक्किल होता है ।

1.हर वह काम ले जो दूसरे छोड़ जाये. (1) तमन्नाओ के बावजूद खुवाईशो का पूरा न होना (2) दिल में बसने वाले इन्सान का न मिलना ! (3) आमाले कुरानी के माहिर ,जिनका वार कभी जाया नही जाता (4) जिनका एक अमल अनहोनी को होनी में बदल डाले.(वह मकसद बताये जो मिलता नही ! वह अमल बताये जो चलता नही !वह इन्सान बताये जो मानता नही ! इन्कारी जिद्दी खुवाईश  के मुताबिक अमल ).तमाम आमिलो ,ज्योतिषों ,तांत्रिको से मायूस लोग अपने रुके हुए काम पुरे करवाये ! जो लोग परेशानियों  को अपनी किस्मत समझ लेते है ! उनके हालत कभी नही बदलते !अपना दुख हमे बताये ,हम करेगे आपकी मदद और बतायेगे सही रास्ता अलशिफा रूहानी अमलियती ताकतों के साथ काफी समय से लोगो को फायदा पहुँचा रहे है ! जो की अपने आमिलो बुजुर्गो की दुआओ से हर इल्म में माहिर है ! हर किस्म की समस्या का समाधान कर रहे है ! चाहे वो रुहानी हो या जिस्मानी !अलशिफा रुहानी अनुरोधकर्ताओ की समस्याओ और उनकी इच्छाओ की पूति का समाधान ,सुरक्षा का स्थायी आश्रय प्रदान करता  है ! और अपनी शक्तिओ की सहायता से समस्याओ और हानियो के दुष्ट प्रभाव को कम करता है !

हर वह काम ले जो दूसरे छोड़ जाये. (1) तमन्नाओ के बावजूद खुवाईशो का पूरा न होना (2) दिल में बसने वाले इन्सान का न मिलना ! (3) आमाले कुरानी के माहिर ,जिनका वार कभी जाया नही जाता (4) जिनका एक अमल अनहोनी को होनी में बदल डाले.(वह मकसद बताये जो मिलता नही ! वह अमल बताये जो चलता नही !वह इन्सान बताये जो मानता नही ! इन्कारी जिद्दी खुवाईश  के मुताबिक अमल ).तमाम आमिलो ,ज्योतिषों ,तांत्रिको से मायूस लोग अपने रुके हुए काम पुरे करवाये ! जो लोग परेशानियों  को अपनी किस्मत समझ लेते है ! उनके हालत कभी नही बदलते !अपना दुख हमे बताये ,हम करेगे आपकी मदद और बतायेगे सही रास्ता अलशिफा रूहानी अमलियती ताकतों के साथ काफी समय से लोगो को फायदा पहुँचा रहे है ! जो की अपने आमिलो बुजुर्गो की दुआओ से हर इल्म में माहिर है ! हर किस्म की समस्या का समाधान कर रहे है ! चाहे वो रुहानी हो या जिस्मानी !अलशिफा रुहानी अनुरोधकर्ताओ की समस्याओ और उनकी इच्छाओ की पूति का समाधान ,सुरक्षा का स्थायी आश्रय प्रदान करता  है ! और अपनी शक्तिओ की सहायता से समस्याओ और हानियो के दुष्ट प्रभाव को कम करता है !

इल्मे नुजूम की कुछ खास बातें  
किस के साथ क्या होने वाला है इस बात को तो सिर्फ कुल कायनात का मालिक अल्लाह तआला ही जानता है ? अल्लाह तआला की इंसान के ऊपर बड़ी रहमत है की उसने जमीन के चारों तरफ ऐसे निशान और अलामतें बनाए है कि जिसके जरिये अहले अक्ल अपनी जिंदगी के लिये रास्ता पा लेते है । जिस तरह शहद कि मक्खियां अल्लाह तआला के बनायें हुए इशारों और कानूनों  की मारफत से पेड़ पौधों में शहद कहां है ? इसकी खोज कर लेती है ।  उसी तरह जिन लोगों को अल्लाह तआला ने अपनी रहमत से इल्म दिया है ,वह अपने चारों तरफ से निशानों और इशारों को देख कर इंसानो के फ़ैज़ के लिये बहुत से फ़ैज़ देने वाले इशारे दिया करते है …

एक बहुत ही अहम जानकारी
अब आपको जो जानकारी दी जा रही है वह भी बहुत अहम है । आप जब भी कोई रूहानी काम करे जिस दिन भी उस काम को करें  

उस दिन के मवक्किल से अपने काम की तकलीम के लिए दुआ के लिए कहें कि वह आपके लिये अल्लाह तआला से दुआ करे और वह करेगा क्योकि अल्लाह तआला ने उसे इसी काम के लिये मुकर्रर किया है । जब आप ऐसा करेंगे तब यकीन है कि अल्लाह के करम से आपको कामयाबी जरूर ही मिलेगी ।

 याद रहे कि हर दिन का एक खास मवक्किल होता है । यह अल्लाह का फिरिश्ता होता है ।   इसी तरह एक खास  मवक्किल इस जमीन पर हर दिन की एक खास दफ्तर में देखभाल करता है । एक मवक्किल वह है जो जमीनी मवक्किल से खबरें लेकर आसमान पर जाता है । आसमान पर जाने के बाद वह अपनी खबरें जिस हाकिम के दफ्तर में पेश करता है वह एक और खास मवक्किल होता है ।

  इस तरह हर दिन के लिए अलग – अलग फिरिश्ते मुकर्रर है । जमीनी मवक्किल के साथ अल्लाह तआला ने कौमे  जिन्नात  में से एक आबिद और अल्लाह के वली जिन्न को भी इस काम में लगा रखा है । जमीनी मवक्किल और उसका मुआविन वलिये कामिल आदमी और जिन्न होते है । ये सब अल्लाह की बुलन्द अहोदे वाली मखलूक है । इस तरह अल्लाह तआला ने पूरे आलम का निजाम कायम कर रखा है । इसके बावजूद भी अल्लाह तआला इनमें से किसी का भी मुहताज नहीं है बल्कि तमाम की मखलूक अल्लाह की ही मुहताज है । ये तो अल्लाह का करम है कि उसने अपनी मखलूक में से अपने कुछ बन्दों को अपने निजाम के लिये मुकर्रर फरमाकर इनका एजाज बढ़ा कर इन सब पर अपना अहसान किया है …

पाच आदमियों की सोहबत से  दूर रहना चाहिए
1.झूठे से-हमेशा तुम्हे दोखे में रखेगा
2.अहमक से- जो तुम्हे बजाये फायेदे के नुकसान पौचायेगा
3.बखील से-जो अपने थोड़े नफे के खातिर तुम्हारा बहुत सा  नुकसान करेगा
4.बुजदिलसे-जो मुस्किल वक़्त पर तुम्हे हालत में छोड़ जायेगा
5.बदामल से- जो तुम्हे एक निवाले पर बेच डाले गा ए अल्लाह बचा  हम सब को बुरी सोहबत से बुरे दोस्तों से बुरी आदत से(आमीन).कर लिया करो  सुबह-सुबह माँ के चेहरे की ज़ियारत.पता नहीं कल तुम्हे हज करने का मोका मिले न मिले.(असरार अहमद).

(बहुत अच्छी बात).
1.वो गम  जिसके मिलने पर तुम्हारा धियान अल्ल्लाह की तरह हो जाये उस खुसी से बेहतर हैं.जिस के मिलने पर तुम  अल्लाह को भूल जाओ.
2.अगर ये चाहते हो .मेरे बहुत से चाहने वाले हैं तो हमेशा मुस्कुराते रहो.क्योकि रूने वाले  का साथ कोई नहीं देता.
3.में कैसे मान लू के कोई मेरा नहीं रहा.जब तक  खुदा की जात हैं.तनहा नहीं हूँ में(तीन नेकिया जिनके करने से क़यामत के दिन अर्श का साया नसीब होगा.
1.टूटे हुवे रिस्तो  को जोड़ना.
2.दिल न चाहते हुवे भी माफ करना.
3.किसी के गुनाह का पर्दा रखना
परेशान रहने के दस कारण-:
1.देर से सोना और देर  से उठना.
2.लेन- देन का हिसाब न रखना.
3.किसी के लिए कुछ न करना.
4.वक़्त की बात ओ को ही सच समझना.
5.किसी का विश्वाश न करना
6.बिना वजहे झूट बोलना
7.कोई भी काम वक़्त पर नहीं करना
8.बिना मांगे सलहा देना.
9.गुजरे हुवे अच्छे बुरे को बार-बार याद करना.
10.हमेशा अपने लिए ही सोचना.
परेशानी के वक़्त की दुअवाए-
परेशानी के वक़्त जब कोई साथ  न दे तो:-अल्ल्लाह से तुरंत मदद हासिल करे. आपकी मदद जरुर होगी(इन्सल्लाह).
1१०० मरतबा दरूद सरीफ.
2.१०० मरतबा तईल्लाह इल्ला अंता सुभानाका इन्नी कुन्तु मिन्जालिमीन.
3.मर्ताब्बा या हय्यु या कयूम बिरामतिखा अस्थगिश.
4.१०० मरतबा इन्ना आजमाया हुवाअमल हैं.अल्ल्लाह की मदद आएगी.
शादी में रुकावट डालने वाले जादू की अलामत-:
1.दायिमी सरदर्द
2.सीनेमें में शदीद घट्न का एह्शाश खाश तोर पर अर्श से ले कर आधी रात तक.
3.मंगेतर को बदसूरत मंजर में  देखना.
4.बहुत ज्यादा परेशान ख्याल.
5.नीनंद के दोरान बहुत ज्यादा घबराहट.
6.कभी -कभी  मदे में दर्द.
7.मर्ज  की जानकारी और इलाज़ के लिए राबता करे
अस्ताग्फार के फायेदे-:
1.परेशानी  खत्म हो जातीहैं.
2.हालत अच्छे हो जाते हैं
3.मुसकिल्हालाथ आशान हो जाते हैं.
4.जब इंसान की मेहनत गलत हो जाये.तो यकीन कमजोर हो जाता हैं और जब यकीन कमजोर हो जाये  तो आमाल ख़राब हो जाते हैं. और आमाल ख़राब हो जाये तो  इन्सान न कामी के रास्ते को इख्त्यार कर लेता हैं.

 

Vashikaran Specialist Astrologer

Email Updates

Subscribe our newsletter to get information about latest updates & events.

Visit Us

Phone:

+91-9456662493
6:00 Am to 9:00 Am
6:00 Pm to 9:00 Pm

E-mail:

alshifaruhani@gmail.com

FacebookTwitter

Copyright &; 2017. CMS INFOTECH . All Rights Reserved.